अब राजस्थान में भी उग रहा है ये खास तरह का खजूर, जो सेहत के लिए करेगा दवा का कामकुछ साल पहले तक खजूर की पैदावार राजस्थान में news agriculture

मुमकिन नहीं थी लेकिन केंद्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान काजरी के वैज्ञानिकों की कोशिश और स्थानीय किसानों की मेहनत ने रेगिस्तान में बहार ला दी है. पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर, चूरू जैसे इलाकों में लाल खजूर से लदे कई बगीचे देखे जा सकते हैं.

राजस्थान के शुष्क एवं अर्धशुष्क क्षेत्र की जलवायु खजूर की खेती के लिए अनुकूल मानी जाती है. पश्चिमी राजस्थान में खजूर की खेती अब काफी पॉपुलर हो रही है. खजूर की मौजूदा किस्म जल्द पक जाती है और बारिश के मौसम में बाजार में होती है खजूर की बागवानी करने वाले किसान काफी खुश हैं, इस बार भी बंपर पैदावार है, लाल रंग के मीठे खजूर मुंह मांगे दाम पर बिक रहे हैं. भारत में बिकने वाला ज्यादातर खजूर खाड़ी देशों से आयात किया जाता है. अगर राजस्थान में जारी खजूर का यह प्रोजेक्ट सफल रहा तो भविष्य में खजूर को आयात करने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

इस खजूर की विशेषता

राजस्थान के बाग के पके खजूर. अपनी पौष्टिक गुणों के लिए जाना जाता है. खास बात यह है कि इसे किसी कोल्ड स्टोर या कारखाने में किसी रसायन या तकनीक से नहीं पकाया जाता, बल्कि यह नैचुरल तरीके से पेड़ों पर पककर ही सीधे मंडी तक पहुंचता है.इसलिए इस खजूर में पौष्टिक तत्वों की भरमार होती है. इससे पेट, दिल, नर्वस सिस्टम तो ठीक रहता ही है, शरीर को भी काफी एनर्जी मिलती है.

विटामिन, मिनरल्स का खजाना

खजूर खाने से बहुत से रोगों की रोकथाम होती है. खजूर में गेहूं, चावल जैसे कई अनाजों की तुलना में उच्च कैलोरी पाई जाती हैं. वहीं शर्करा की मात्रा भी काफी होती है. पेट को साफ रखने वाला फाइबर, कई जरूरी विटामिन, मिनरल्स, और भरपूर फोलिक एसिड आपके शरीर को तंदुरुस्त बनाए रखता है.

खजूर पर नेटवर्क प्रोजेक्ट बीकानेर, जोधपुर एवं आ

होम एग्रीकल्चर किसे कहते हैं डीजल का पौधा, जानिए इसकी खेती किसानों की किस्मत कैसे खोल देगी

Leave a comment

निंबू की खेती भारत में बड़े पैमाने पर की जा रही हैं गर्मियों में किसानों की बल्ले बल्ले, अब हरियाणा के किसानो को मिलेगी जापानी खेती बाड़ी की मशीनें अवाकाडो की खेती है लाखों की कमाई कर रहा है Indainfarmer अदरक चाय में डालकर चाय सुकुन आ जाता है महेंद्रा ट्रेक्टर 10 टाप-कपनी