ड्रैगन फ्रूट्स थाईलैंड लाखों कमाओ dragon fruit plant

ड्रैगन फ्रूट्स, जिन्हें भीमसेनिया गोकुलाका (आउट्स) के आकार और संरचना के कारण अक्सर “ड्रैगनफ्रूट” के नाम से जाना जाता है, बाजार में एक प्रकार के फल के रूप में पाए जाते हैं। ये फल प्रायः दक्षिण पूर्वी एशिया के देशों, जैसे कि वियतनाम, थाईलैंड, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, और ताइवान में प्रमुख रूप से प्रचलित हैं।

ड्रैगन फ्रूट की बाहरी परत गाढ़ी और खारी होती है, और ये पीले, लाल, या गुलाबी रंग की हो सकती है। ये फल विशेष रूप से तगड़े बीजों से भरे होते हैं, जिनकी खाल छिलने पर अंदर का मीठा और गूदेदार मांस दिखता है। बीच में फल के आकार के कारण एक प्रकार की सेमेन्ट की जैसी दिखती है, जिसकी वजह से इसे कई भाषाओं में “ड्रैगन फ्रूट” के रूप में जाना जाता है।

ड्रैगन फ्रूट मधुर और मीठे स्वाद के लिए जाने जाते हैं। इनका अंदरी भाग पुल्पी और जूसी होता है, जिसे खाने के लिए निकाला जा

ड्रैगन फ्रूट्स की खेती बागवानी में की जाती है और ये फल कम उपजाऊ क्षेत्रों में भी आसानी से उगाए जा सकते हैं। इसके लिए निम्नलिखित तत्वों का ध्यान रखना महत्वपूर्ण होता है:

1. जलवायु: ड्रैगन फ्रूट्स उष्णकटिबंधीय जलवायु में अच्छे से उगाए जा सकते हैं। इनके लिए स्थायी तापमान 20-30 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 10 डिग्री सेल्सियस की आवश्यकता होती है। ये पौधे तेज धूप को सह सकते हैं, लेकिन तीव्र हवा और ठंड में नुकसान पहुंचा सकती है।

2. मिट्टी: ड्रैगन फ्रूट्स अनुकुलता के साथ कई प्रकार की मिट्टियों में उगाए जा सकते हैं। हालांकि, ये पौधे अधिकतर व्यापक, गाढ़ी, विषाणुयुक्त और अच्छे निर्वाह योग्यता वाली मिट्टी को पसंद करते हैं। भूमि का pH स्तर 6-7 होना चाहिए। उच्च मात्रा में गाड़ा, गुदा, और खाद युक्त मिट्टी उपयुक्त होती है।

3. पौधों की खेती: ड्रैगन फ्रूट्स को बीजों द्वारा प्रजातियो

ड्रैगन फ्रूट्स की खेती बीजों के द्वारा की जाती है। यहां ड्रैगन फ्रूट्स की प्रजातियों की प्रजातियों को उगाने के लिए उपयुक्त तरीके दिए गए हैं:

1. बीज का चयन: ड्रैगन फ्रूट्स की खेती के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले बीजों का चयन करें। ताजा, स्वस्थ और विकसित बीज चुनें जो उगाने के लिए उपयुक्त हों।

2. बीजों की बूँदबांदी: ड्रैगन फ्रूट्स के बीजों को ध्यानपूर्वक बूँदबांदी करें। इसके लिए बीजों को एक सूखी और ठंडी जगह पर सुरक्षित रखें ताकि वे प्राकृतिक रूप से बीजों की प्रक्रिया को पूरा कर सकें।

3. बीजों का प्राकृतिक उपचार: बीजों को कुछ समय तक गर्म जल में भिगोने या आवश्यकतानुसार किसी विषाणुयुक्त उपचार करने के लिए ध्यान दें। इससे उनकी उगाई होने की प्रक्रिया में मदद मिलेगी।

4. पौधों का उगाना: ड्रैगन फ्रूट्स के पौधों को ध्यानपूर्वक समर्पित जमीन में उगाएं। उन्हें पर

थाईलैंड में ड्रैगन फ्रूट्स की खेती व्यापक रूप से की जाती है और यहां इस फल की खेती से अच्छी कमाई होती है। थाईलैंड में ड्रैगन फ्रूट्स की खेती करने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करें:

1. भूमि की तैयारी: सबसे पहले, एक उच्च उत्पादक और सुरक्षित जमीन का चयन करें। जमीन को अच्छी ड्रेनेज के साथ गुदा, गाड़ा और युक्तियुक्त बनाएं। भूमि का pH स्तर 6-7 होना चाहिए।

2. बीज का चयन और बूँदबांदी: उच्च गुणवत्ता वाले ड्रैगन फ्रूट्स के बीजों का चयन करें। यहां बीजों को पूरी तरह से धो दें और पूरी तरह से सूखने दें। उन्हें खेत में बूँदबांदी करें।

3. समर्पित जमीन में उगाई: बीजों को संतुलित अंतराल पर जमीन में उगाएं। उन्हें नीचे जमीन में अच्छी गहराई तक गहराने के लिए ध्यान दें। पौधों के बीच वातावरणीय अंतराल को बनाए रखें।

4. सवारी और संग्रह: पौधों को नियमित रूप से सिंचाई कर

Leave a comment

निंबू की खेती भारत में बड़े पैमाने पर की जा रही हैं गर्मियों में किसानों की बल्ले बल्ले, अब हरियाणा के किसानो को मिलेगी जापानी खेती बाड़ी की मशीनें अवाकाडो की खेती है लाखों की कमाई कर रहा है Indainfarmer अदरक चाय में डालकर चाय सुकुन आ जाता है महेंद्रा ट्रेक्टर 10 टाप-कपनी