धान की फसल में जिंक का प्रयोग कब करें ओर प्रयोग कर

न की फसल में जिंक का प्रयोग कब करें : आज के समय में कृषि कार्य करना बहुत ही आसान हो गया है क्योकि नई – नई तकनीक के कृषि यंत्र आ चुके है। लेकिन अब धान के फसल में इतने बीमारी आते है कि किसानों को कई बार कीटनाशक दवा का छिड़काव करना पड़ता है। इसका मुख्य कारण है धान के फसल में जिंक की कमी होना है। अगर आप भी जानना चाहते है धान के फसल में जिंक कब डालने से बीमारी नहीं आते एवं पैदावार अधिक होते है तो इस आर्टिकल का पूरा अवलोकन करे

ग्रामीण क्षेत्र के अधिकांश किसानों को कृषि कार्य करने का सही तरीका पता नहीं होते है जिसके कारण जिंक नहीं डालते है। जिससे धान के फसल में जिंक की कमी होने के कारण तना छेदक , पत्ता लपेटक , पीली पत्ती , ब्लॉस्ट , खैरा रोग जैसे तरह तरह के बीमारी आने शुरू हो जाते है। और धान के कल्ले निकलना बंद हो जाते है इसलिए सभी किसानों को सही समय में जिंक डालना चाहिए इससे किसानों के कीटनाशक का पैसा भी बच जाते है। और पैदावार भी अधिक होते है तो आइये बिना देरी किये धान के फसल में जिंक कब डालना चाहिए इसके बारे में पूरी जानकारी बताते है।।

धान की फसल में जिंक का प्रयोग कब करें ?

धान के फसल में जिंक की कमी के लक्षण

धान के फसल में जिंक की कमी से पत्ती पीली होने लगती है।
धान में अधिक जिंक की कमी से पत्ते भूरे रंग के धब्बे होने लगते है।
जिंक की कमी धान के नए कल्ले निकलना बंद हो जाते है एवं धान का बढ़ाव भी रुक जाते है।
फसल में जिंक की कमी होने के कारण पत्तिया मुड़ने लगती है।
जिंक की कमी होने के कारण बालिया निकलने में देरी होती है और बालिया छोटी छोटी निकलती है।

जिंक कब डालना चाहिए जानने के लिए धान के रोपाई से पहले 10 किलोग्राम जिंक सल्फेट 1 एकड़ में डालना चाहिए। इसके बाद अगर धान के फसल में किसी प्रकार के बीमारी दिखाई दे रहे है तो 1 किलोग्राम जिंक सल्फेट और 5 किलोग्राम यूरिया को 200 लीटर पानी में घोल बनाकर 1 एकड़ में डालना चाहिए फिर धान के कल्ले निकलने से पहले 2 किलोग्राम जिंक सल्फेट की घोल बनाकर छिड़काव करना चाहिए इस प्रकार धान के फसल में जिंक का प्रयोग करना चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

धान के फसल में जिंक की कमी से क्या नुकसान होते है ?

अगर धान के फसल में जिंक की कमी है तो खैरा रोग , तना छेदक , पीली पत्ती , ब्लॉस्ट जैसे तरह तरह की बीमारी आने लगते है। और धान के कल्ले निकलना बंद हो जाते है।

1 एकड़ धान के फसल में कितना डीएपी डालना चाहिए ?

धान रोपाई के 1 सप्ताह बाद प्रति एकड़ 50 किलोग्राम डीएपी डालना चाहिए।

धान में पोटाश कब डालना चाहिए ?

धान में जब बालिया निकलना शुरू हो जाते है तब 30 से 35 किलोग्राम पोटाश प्रति एकड़ के अनुसार से डालना चाहिए इससे धान के बालिया बड़े बड़े होते है।

धान की फसल में जिंक का प्रयोग कब करें , इसके बारे में यहाँ पर विस्तार से बताया गया है अगर आपने इस आर्टिकल का अंत तक अवलोकन किया है। तो आपको पता चल गया होगा धान के फसल में जिंक कब डालना चाहिए। यदि यह जानकारी समझ नहीं आ रहे है तो कमेंट करके पूछ सकते है

Leave a comment

निंबू की खेती भारत में बड़े पैमाने पर की जा रही हैं गर्मियों में किसानों की बल्ले बल्ले, अब हरियाणा के किसानो को मिलेगी जापानी खेती बाड़ी की मशीनें अवाकाडो की खेती है लाखों की कमाई कर रहा है Indainfarmer अदरक चाय में डालकर चाय सुकुन आ जाता है महेंद्रा ट्रेक्टर 10 टाप-कपनी