3d printed hydroponic tower हाइड्रोपोनिक खेती कमाई भारत

हाइड्रोपोनिक खेती एक विज्ञानिक तकनीक है जिसमें पौधों को पोषक तत्वों सहित पानी में उगाया जाता है, बिना मिट्टी के. यह पदार्थों के प्रयोग से पौधों को पोषक तत्वों की सबसे अच्छी मात्रा में आपूर्ति करता है जिससे पौधों की विकास और उगाई बेहतर होती है.

इस तकनीक में, पानी के संचालन के लिए एक हाइड्रोपोनिक सिस्टम का उपयोग किया जाता है, जिसमें पानी में पोषक तत्वों की विषाणुओं को मिश्रित किया जाता है। पौधों को इस सिस्टम में स्थापित किए जाते हैं ताकि उन्हें पोषक तत्वों का सीधा संपर्क मिले और उन्हें विकास के लिए आवश्यक ऊर्जा और पोषण मिले। पानी में विषाणुओं के संचालन के लिए पंप और संचालन सिस्टम का उपयोग किया जाता है ताकि पानी की मात्रा, तापमान, ओक्सीजन स्तर और pH स्तर नियंत्रित किए जा सकें।

हाइड्रोपोनिक खेती के कुछ लाभ निम्नलिखित हैं:
1. अधिकतम उत्पादकता: हाइड्रोपोनिक सिस्टम में पौधों को सबसे अच्छी मात्रा में पोषक तत
हाइड्रोपोनिक खेती में विभिन्न प्रकार की खेती की जा सकती हैं, जिनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

1. फसलों की सब्जीयां: शाक-भाजी उत्पादन हाइड्रोपोनिक खेती में अधिकांश प्रयुक्त होती हैं। तमाटर, खीरा, शिमला मिर्च, पालक, फ्रेंच बीन्स, मिर्च, पत्तागोभी, पालक, टिंडा, बैंगन, हरी मटर, आदि इसमें शामिल हो सकती हैं।

2. फलों की खेती: हाइड्रोपोनिक खेती में कई प्रकार के फलों की खेती की जा सकती हैं। इसमें अंगूर, स्ट्रॉबेरी, आम, आरबी, पपीता, नाशपाती, नींबू, संतरा, आदि शामिल हो सकते हैं।

3. हर्ब्स: हाइड्रोपोनिक खेती में जड़ी-बूटियों की उगाई की जा सकती है। धनिया, पुदीना, तुलसी, रोजमैरी, ओरेगैनो, थाइम, लेमनग्रास, बेसिल, पार्सली, आदि हर्ब्स इसमें शामिल हो सकते हैं।

4. फूलों की खेती: हाइड्रोपोनिक खेती में फूलों की खेती भी की जा सकती है। गुलाब, लिली, कर्नेशन, गेंदा, मरीगोल्ड, सूरजमुखी, आदि फूल इ
हाइड्रोपोनिक सेटअप का खर्च विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कि आपके उद्देश्य, स्थान, आपके चयनित पाधानुक्रम, और सामग्री के विविधताओं के आधार पर। इसलिए, एक निश्चित आंकड़ा प्रदान करना कठिन है। हालांकि, मूल खर्चों की एक आंकड़ा प्रदान किया जा सकता है।

हाइड्रोपोनिक सेटअप की कुल लागत में उच्चतम खर्च सामग्री, पंप, संचालन सिस्टम, ऊर्जा सप्लाई, नियंत्रण औजार, प्रक्षेपण औजार, ग्रो लाइट्स (यदि आवश्यक हो), सामग्री (पानी, पोषक तत्व, विषाणु मिश्रण), नियंत्रण यंत्र, वेंटिलेशन, और मास्किंग आदि शामिल हो सकते हैं।

सामान्य रूप से, मध्यम आकार के हाइड्रोपोनिक सेटअप के लिए लगभग 500 डॉलर से 5000 डॉलर के बीच का खर्च आ सकता है। इसमें सेटअप की सामग्री, पंप, संचालन सिस्टम, औजार, और सम्पूर्ण नियंत्रण यंत्र शामिल हो सकते हैं।

यह खर्च अधिक या कम भी हो सकता है, इसलिए सर्वश्रेष्ठ होगा कि आप अपने विशिष्ट आवश
पत्तेदार सब्जियां जैसे कि पालक, मेथी, कोरियंडर आदि करीब 2-3 हफ्तों में पूरी तरह से पक जाती हैं।
मिश्रित सब्जियां जैसे कि टमाटर, ककड़ी, शिमला मिर्च आदि लगभग 6-8 हफ्तों में परिपक्व हो जाती हैं।
बहुप्रजातीय फलों की खेती जैसे कि गेंदा, फसल आदि में फसल को लगभग 3-4
हाइड्रोपोनिक खेती में एक फसल की कमाई कई तत्वों पर निर्भर करेगी, जैसे कि उगाई जा रही फसल का प्रकार, उत्पाद की मांग, बाजार की दर, उत्पाद की गुणवत्ता, और संचालन लागत आदि।

आमतौर पर, हाइड्रोपोनिक खेती में प्रति वर्ष प्रति वर्गमीटर की कमाई अधिक होती है तुलनात्मक मिट्टी में खेती की तुलना में। हाइड्रोपोनिक खेती में प्रति वर्गमीटर प्रति वर्ष कमाई करीब $100 से $150 तक हो सकती है, लेकिन यह आपके चयनित फसल, बाजार मांग और अन्य कारकों पर भी निर्भर करेगी।

यह बात ध्यान देने योग्य है कि यह केवल अंदाजा है और अधिकांश कारक जैसे कि स्थान, प्रबंधन तकनीक, उत्पाद विकास की सामग्री, बाजार मानदंड, और स्थानिक प्रतिस्पर्धा के कारण अस्थायी और परिस्थिति के आधार पर बदल सकती है।

Leave a comment

निंबू की खेती भारत में बड़े पैमाने पर की जा रही हैं गर्मियों में किसानों की बल्ले बल्ले, अब हरियाणा के किसानो को मिलेगी जापानी खेती बाड़ी की मशीनें अवाकाडो की खेती है लाखों की कमाई कर रहा है Indainfarmer अदरक चाय में डालकर चाय सुकुन आ जाता है महेंद्रा ट्रेक्टर 10 टाप-कपनी