soybean kheti सोयाबीन खेती कमाई लाखों कि फसल 💵🤑

सोयाबीन (Soybean) एक महत्वपूर्ण फसल है जो विशेषकर खाद्य एवं पशुधन उत्पादन के लिए उगाई जाती है। यह फसल वैज्ञानिक नाम Glycine max से जानी जाती है और उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन के स्रोत के रूप में मान्यता प्राप्त है। सोयाबीन खाद्य तेल, खाद्य पदार्थ और पशुओं के चारे के रूप में उपयोग होती है।

यहां सोयाबीन की खेती के लिए कुछ महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है:

1. मौसम: सोयाबीन उष्णकटिबंधीय फसल है और इसे मैदानी जलवायु में अच्छी तरह से उगाया जा सकता है। यह फसल 20-30 डिग्री सेल्सियस के तापमान में अच्छे से पलती है।

2. मिट्टी: सोयाबीन की उगाई के लिए मिट्टी का चयन महत्वपूर्ण है। यह अच्छी तरह से निराई गई, धातुशोधित मिट्टी की आवश्यकता रखती है जो अच्छा स्राव निर्मित करे और पानी रासायनिक तत्वों को बाहर ले जाए।

3. बीज चुनाव: अच्छी गुणवत्ता वाले और समय पर प्राप्त बीज का चयन करें। बीजों को पहले
4. सोयाबीन मंडी रेट (7 जुलाई 2022 के अनुसार)
CROP CULTIVATION (फसल की खेती)
प्रगतिशील किसानों ने बताया सोयाबीन में लागत खर्च और उत्पादन का गणित

01 जुलाई 2022, इंदौर: खरीफ की मुख्य फसल सोयाबीन की लागत खर्च और उत्पादन को लेकर ‘कृषक जगत – राष्ट्रीय कृषि अखबार’ ने चुनिंदा प्रगतिशील किसानों से चर्चा की, जिसमें उन्होंने सोयाबीन के लागत खर्च और उत्पादन का हिसाब साझा किया। तीनों सोयाबीन उत्पादकों से मिली खेती की लागत का उल्लेख आप सबकी जानकारी के लिए यहाँ दिया जा रहा है ।

1. बैतूल जिले के कृषक श्री पांडुरंग नारायण राव लोखंडे
मध्य प्रदेश के बैतूल जिले के प्रगतिशील कृषक श्री पांडुरंग नारायण राव लोखंडे ने सोयाबीन लागत खर्च और उत्पादन की इस प्रकार गणना की: एक एकड़ खेत मूल्य का ब्याज (एसबीआई के अनुसार) 20 हज़ार रु, प्लाऊ के 2 हज़ार रु, दो बार कल्टीवेटर के 16 हज़ार रु, रासायनिक खाद 12:32:16 मात्रा 75 किलो 2200 रु, बीज 35 किलो 150 की दर से 5250 रु, सल्फर 5 किलो, थायरम + इमिडा + रायज़ो + पीएसबी खर्च 2000 रु, बोवनी खर्च 1000 रु, बोनी बाद खरपतवारनाशक अथारटी 1500 रु, 20 दिन बाद खरपतवारनाशक और श्रमिक खर्च 3000 रु, कीटनाशक और स्प्रे खर्च 2500 रु, कटाई 2000 रु, थ्रेशर 2500 रु तथा जुट बोरी, ढुलाई और हम्माली 2000 रु प्रति एकड़। कुल लागत 47,500 रुपए प्रति एकड़ बताई।

सोयाबीन का उत्पादन प्रति हेक्टेयर 20 से 25 क्विंटल के बीच होता है। 20 क्विंटल औसत उत्पादन और 6000 रु / प्रति क्विटंल की दर से कुल आमदनी 1,20,000 रु – कुल खर्च 40,700 रु =79,300 रु /हे लाभ हो सकता है, यदि मौसम अनुकूल रहा तो। प्रति एकड़ के हिसाब से देखा तो ये करीब 32,092 रु आता है।

ऊपर दी गई खेती की तीनों लागतों की तुलना करना मुश्किल है क्योंकि बहुत सारे परिवर्तनशील कारक हैं जिन्हें किसान ने ध्यान में रखा है। यहां तक कि तीनों किसानों की बाजार दरें भी अलग-अलग हैं जो उन्हें अलग-अलग लाभ स्तर देती हैं।

खेती की यह लागत आपको खेती की तीन परिवर्तनीय लागतों को समझने और बाजार मूल्य के अनुसार कुल निवेश का निर्णय लेने में मदद करेगी। आप इस लेख को अन्य किसानों के साथ साझा कर सकते हैं और उनसे पूछ सकते हैं कि वे किस खेती की लागत का पालन करते हैं। इससे आपको अपनी सोयाबीन की फसल में निवेश और खर्च के संबंध में बेहतर निर्णय लेने में मदद मिलेगी।

Leave a comment

निंबू की खेती भारत में बड़े पैमाने पर की जा रही हैं गर्मियों में किसानों की बल्ले बल्ले, अब हरियाणा के किसानो को मिलेगी जापानी खेती बाड़ी की मशीनें अवाकाडो की खेती है लाखों की कमाई कर रहा है Indainfarmer अदरक चाय में डालकर चाय सुकुन आ जाता है महेंद्रा ट्रेक्टर 10 टाप-कपनी